Best Poem On Rain In Hindi | वर्षा पर 5 श्रेष्ठ हिंदी कविताएं

Best Poem On Rain In Hindi | वर्षा पर 5 श्रेष्ठ हिंदी कविताएं: आज के इस लेख में GyaaniGuruji की वेबसाइट की तरफ से वर्षा ऋतु (बारिश का मौसम) पर “Poem On Rain In Hindi” शेयर करने जा रहे हैं| इस आर्टिकल में वर्षा ऋतु पर आप सभी को 5 श्रेष्ठ कविताएं (Baarish Par Kavita) देखने को मिलेंगी| जिसे आप अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते हैं|

poem on rain in hindi

Poem On Rain In Hindi | वर्षा पर 5 श्रेष्ठ हिंदी कविताएं

बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी को बारिश का मौसम काफी पसंद होता है| बारिश के मौसम में सभी लोग घूमना, फिरना पसंद करते हैं तथा बारिश के मौसम का लुफ्त उठाते हैं| मौसम सुहावना हो जाता है| लोग आनंद में मस्ती के लिए बाहर घूमने निकल जाते हैं|

बारिश के मौसम में पक्षी भी खुले आकाश में उड़ने का भरपूर आनंद लेते हैं| पशु भी अपने छिपने के स्थान से बाहर निकलकर इस खुशनुमा मौसम का आनंद लेते हैं|

इसलिए, हम अपने आर्टिकल में वर्षा ऋतु पर कुछ Popular Poem On Rain In Hindi शेयर करने जा रहे हैं|अगर आप जानना चाहते हैं| कि इस आर्टिकल में आपको बारिश के मौसम पर किस तरह की कविताएं देखने को मिलेगी|

तो इस लेख में आपको Best Hindi Poem On Rain, Poem On Summer Season In Hindi, Baarish Par Kavita, Hindi Poems On Rain by Rabindranath Tagore और Varsha Ritu Poem In Hindi Language देखने को मिलेगी|

Best Poem On Rain In Hindi | वर्षा पर 5 श्रेष्ठ हिंदी कविताएं

वषा ऋतु सभी को पसंद होती है| हमने इस आर्टिकल में वर्षा ऋतु पर कुछ कविताएं लिखी है| तो चलिए ज्यादा समय बर्बाद न करते हुए यह लेख Best Poem On Rain In Hindi पढ़ना प्रारंभ करते हैं|

poem on rain in hindi

Popular Poem On Rain In Hindi

इठलाती, लाई फुहार,

देखो आई बरखा बहार,

रिमझिम – रिमझिम झड़ी लगाई,

प्रकृति कैसी है मुस्काई,

लहराते पत्ते – पत्ते पर,

हरियाली इसने बिखराई,

ऋतुओ ने है किया शृंगार,

देखो आई बरखा बहार.

Varsha Ritu Poem In Hindi Language

चमचम चमचम बिजली चमके,

रिमझिम रिमझिम बादल बरसे|

गरज गरज कर करते शोर,

छाई काली घटा घनघोर|

प्यारी धरती की प्यास बुझाने,

आई वर्षा हमें भिगोने|

मैं तो हूं इसकी दीवानी,

सबसे प्यारी वर्षा रानी|

Poem On Summer Season In Hindi

भटक रहे थे प्यासे प्यासे

पंछी इधर-उधर बौराए

थक निठाल होकर सुस्ताते

पथिक किनारे पर मुरझाए

झुलसाने वाली गर्मी से

त्राण सभी पाते हैं प्राणी

तुरही बजाओ थाल सजाओ

आ पहुंची है वर्षा रानी

सोंधी सोंधी उठी सुगंधी

पतन हो गई ठंडी ठंडी

उल्लासित तन मन करती है

जब ऋतु की मोहक सारंगी

मस्त पवन करती मनमानी

रिम झिम बरस रहा है पानी

Baarish Par Kavita – बारिश पर कविता

नभ से मोतियों का झरना,

टिप टिप हौले से बरसे|

वर्षा की बूंदों का एहसास,

प्यासी पृथ्वी कब से तरसे||

भूमि पर जल पढ़ते ही,

मिट्टी की फैले सुरभि अनुपम|

पानी से हो पुनीत, ‘मानस’,

दिखे निसर्ग कितना हरितम||

मैं आशा करता हूं| कि हमारे द्वारा शेयर की गई पोस्ट “Best Poem On Rain In Hindi | वर्षा पर 5 श्रेष्ठ हिंदी कविताएं” आपको काफी अच्छी लगी होगी| अगर आपको हमारी यह पोस्ट काफी अच्छी लगी| तो हमें कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं कि आपको हमारी यह पोस्ट कैसा लगा|

इस लेख को अपने दोस्तों और मित्रों के साथ Facebook और Twitter पर जरूर शेयर करें|

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *